Tuesday, 27 June 2017

दिल दुखाते हो -मेरी शायरी

Dil dukhate ho tum,
Fir bhi yaad aate ho tum,
Mnn ko bhigo ke jaati hai teri yaaden,
Aur is barsaat me tarsaate ho tum...

दिल दुखाते हो तुम,
फिर भी याद आते हो तुम,
मन को भिगो के जाती है तेरी यादें,
और इस बरसात में तरसाते हो तुम...

तेरी बातें सिर्फ बातें-मेरी शायरी

Teri baatey sirf baatey hai, 
Hakikat hoti to main tanha na hoti

तेरी बातें सिर्फ बातें है,
हक़ीक़त होती तो मैं तन्हा ना होती।

अजनबी से बने हुए है -मेरी शायरी

Ajnabi se bane huye hai aap,
 Aur hume bs kisi apne ka intzaar hai..

अजनबी से बने हुए है आप,
और हमें बस किसी अपने का इंतज़ार है...

ना तू आया ना बारिश-मेरी शायरी

Na tu aya na barish, 😢
Bade tere jhoothe ,na ab hume koi khoyesh...😢

ना तू आया ना बारिश,😢
वादे तेरे जूठे, ना अब हमें कोई ख़्वाहिश...😢😢 

प्यार होता तो आज हम -मेरी शायरी

Pyaar hota to aaj hum saath hote , 
yuh barish ki boondo k liye tarste na hote... 

प्यार होता तो आज हम साथ होते,
यूँ बारिश की बूंदों के लिए तरसते न होते...

रूठ ने का हक़ भी -मेरी शायरी


Roothne ka huk bhi sheen liya,
😒😒
          Ab bcha hy kya hai lootne k liye!!

रूठ ने का हक़ भी छीन लिया,
😒😔
अब बचा ही क्या है लूटने के लिए!!! 

वो तड़पाते है, रुलाते है-मेरी शायरी

Vo tadpate hai,rulatey hai,intzaar krvate hai,
Aur hume roothne ka vi huk nahi!!??

वो तड़पाते है, रुलाते है, इंतज़ार करवाते है,
और हमे रूठने का भी हक़ नही!!?? 

Wednesday, 21 June 2017

प्यार मेरा तेरे जैसा -मेरी शायरी

Pyaar mera tere jaisa to nhi,
Bs tu hi tu hai  pr khwabon  jaisa to nhi,
Dil hua hai pagal is jazbaat mai,
Kahi tera haal mere jaisa to nhi...???

प्यार मेरा तेरे जैसा तो नहीं,
बस तू ही तू है  पर खवाबों  जैसा तो नहीं,
दिल हुआ है पागल इस जज़्बात मे,
कही तेरा हाल मेरे जैसा तो नहीं...???  

थोड़ा रो कर जी हल्का कर-मेरी शायरी

Thoda ro kr ji halka kr lete,
Thoda muskura ke ji lete,
Tum paas hote 
To hum akele na hote...

थोड़ा रो कर जी हल्का कर लेते,
थोड़ा मुस्कुरा के जी लेते,
तुम पास होते
तो हम अकेले ना होते...।

तेरा ज़िक्र...तेरी फ़िक्र -मेरी शायरी

Tera zikr...teri fikr... 

Tera ehsaas... Tera khyaal..!!! 

Tu khuda nhi... Fir har jagah maujud kyun hai...!!? 


तेरा ज़िक्र...तेरी फ़िक्र... 
तेरा एहसास... तेरा ख्याल..!!! 
तू खुदा नही... फिर हर जगह मौजूद क्यूँ है...!!?

बरसों से कायम है इश्क़-मेरी शायरी

Barso se kayam hai ishq,
Apne asoolon pe, 
Ye kal bhi taklif deta tha, 
Ye aaj bhi taklif deta hai... 

बरसों से कायम है इश्क़, 

अपने असूलों पे, 
ये कल भी तकलीफ़ देता था, 
ये आज भी तकलीफ़ देता है...।

एक बार तो यूँ होगा -मेरी शायरी

Ek baar to yun hoga, 
Thoda sa sukun hoga, 
Na dil main kasak hogi, 
Na sar main junoon hoga... 

एक बार तो यूँ होगा,

थोड़ा सा सुकून होगा, 
ना दिल में कसक होगी, 
न सर में जुनूँ होगा...।  

Sunday, 18 June 2017

बात करो, हमें याद-मेरी शायरी

Baat karo, Hme yaad kro,
Dil me na koi friyad kro,
Hai mohabbat to khul ke kaho,
Aise hme na nazar-andaaz kro...

बात करो, हमें याद करो,
दिल मैं ना कोई फरियाद करो,
है मोहब्बत तो खुल के कहो,
ऐसे हमे ना नज़र अंदाज़ करो...

Tuesday, 13 June 2017

एक मेहबूब बेपरवाह-मेरी शायरी

Ek mehboob beparwah aur...
Ek Mohabbat bepanaah,
Dono kaafi hai...
Sukoon barbaad krne ko...

एक मेहबूब बेपरवाह और...
एक मोहब्बत बेपनाह,
दोनों काफ़ी है...
सुकून बर्बाद करने को...।

Sunday, 11 June 2017

इतना प्यार है उनको हमसे-मेरी शायरी

Itna pyaar hai unko hmse, ki lfzo me jazbaat bayaan nhi hote...
Dil bhi dukhate hai hum to wo naraz nhi hote,
Kaise bataye hum unhe ki irada to krib aane ka tha,
Kambkht mere jazbaat kyun zaahir nhi hote...???

इतना प्यार है उनको हमसे,की लफ्ज़ों में जज़्बात बयान नही होते...
दिल भी दुःखाते है हम,तो वो नाराज़ नही होते...
कैसे बताये हम उन्हें की इरादा तो करीब आने का था,
कमबख्त मेरे जज़्बात क्यूँ ज़ाहिर नही होते...???

Saturday, 10 June 2017

तुम्हें मैंने अपनी आंखों का -मेरी शायरी

Tumhe maine apni aankho ka kajal bana rakkha hai,
Koi pu6e to ada se naaz krte hai...

तुम्हें मैंने अपनी आंखों का काजल बना रक्खा है,
कोई पूछे तो अदा से नाज़ करते है।

मेरे सपनों को वो बयाँ करने -मेरी शायरी

Mere sapno ko wo bayaan krne lage hai...
Khushiyo ka wo mujhe paigaam dene lage hai..
Zindgi bs unke pehlu me bitani hai mujhe,
Is kadar wo mujhe apna banane lage hai...

मेरे सपनों को वो बयाँ करने लगे है,
खुशियों का वो मुझे पैगाम देने लगे है...
ज़िन्दगी बस उनके पहलू में बितानी है मुझे,
इस कदर वो मुझे अपना बनाने लगे है...

ख़्वाहिशों के दबे दबे से -मेरी शायरी

Khwahisho ke dbe dbe se armaan the mere,
Unko sine se lagaya unhone,
Sapne saare jo adhure the mere,
Unko hakiqat banaya unhone...

ख़्वाहिशों के दबे दबे से अरमान थे मेरे,
उनको सीने से लगाया उन्होंने...
सपने सारे जो अधूरे थे मेरे,
उनको हक़ीक़त बनाया उन्होंने...

Wednesday, 7 June 2017

दिल पे दस्तक दी औऱ दिल मे ही-मेरी शायरी

Dil pe dastk di or dil me hi bas gya...
Tb se  sine se ye dil gya...
Sb kuchh apna apna sa lgta hai,
Jb se wo mujhme bs gya...

दिल पे दस्तक दी औऱ दिल मे ही बस गया...
तब से सीने से ये दिल गया...
सब कुछ अपना अपना सा लगता है,
जब से वो मुझ में बस गया...।

उस श्याम ने प्रेम-मेरी शायरी

Us shyam ne prem banaya he,
Is shyam ne prem sikhaya he,
Dono shyam prem ke naam he,
Milna bichhdna uske haath he...

उस श्याम ने प्रेम बनाया है,
इस श्याम ने प्रेम सिखाय है,
दोनों श्याम प्रेम के नाम है,
मिलना बिछड़ना उसके हाथ है...।

दुआ तेरी कबूल-मेरी शायरी

Dua teri kabool hogi
Kamyaabi tere ruh-b-ru hogi,
Khud pe aitbaar kr,khuda pe barosa
Teri saari pareshaniyan dur hogi...

दुआ तेरी कबूल होगी,
कामयाबी तेरे रूबरू होगी,
खुद पे ऐतबार कर, खुदा पे भरोसा,
तेरी सारी परेशानियां दूर होंगी...।

आईने मैं देखु तो अक्स उसका-मेरी शायरी

Aaine me dekhu to aks uska dikhai de,
Ae khuda ab to hme milaa de...
Khud ko bhul gye ya yaad tum hi ho?
Ab Na kuchh soche bs tu duhai de..

आईने मैं देखु तो अक्स उसका दिखाई दे,
ए खुदा अब तो हमे मिला दे...
खुद को भूल गए या याद तुम ही हो?
अब ना कुछ सोचे बस तू दुहाई दे...

Saturday, 3 June 2017

अंदाज़ कुछ बदला बदला-मेरी शायरी

Andaaz kuchh badla badla sa hai,
Man kuchh machlaa machlaa sa hai,
Hui hai hume mohabbat jabse unse,
Dil kuchh pagalaa pagalaa sa hai...

अंदाज़ कुछ बदला बदला सा है,

मन कुछ मचला मचला सा है,
हुई है हमे मोहब्बत जबसे उनसे,
दिल कुछ पगला पगला सा है...

उनकी याद कुछ ऐसे सताने-मेरी शायरी

Unki yaad kuchh aise satane lagi,
Baarish bann kar dil ko bhigone lagi,
Wo door hai hum se itnaa fir bhi,
Paas hone ka ehsaas dilane lagi...

उनकी याद कुछ ऐसे सताने लगी,
बारिश बन कर दिल को भिगोने लगी,
वो दूर है हम से इतना फिर भी,
पास होने का एहसास दिलाने लगी...

उनको याद करना अच्छा -मेरी शायरी

Unko yaad krna achchha lagta hai,
Unko pyaar krna achchha lagta hai,
Judai ka dard to hai magar,
Unki yaad me tadapna achchha lagta hai...

उनको याद करना अच्छा लगता है,

उनको प्यार करना अच्छा लगता है,
जुदाई का दर्द तो है मगर,
उनकी याद में तड़पना अच्छा लगता है...

जब पैगाम आप का -मेरी शायरी

Jab paigaam aap ka aata hai,
Ye dil machal jaata hai,
Ho chaahe kitne bhi gum,
Bs pl bhar mai chura le jaata hai...

जब पैगाम आप का आता है,

ये दिल मचल जाता है,
हो चाहे कितने भी गम,
बस पल भर में चुरा ले जाता है...

यूँ ही प्यार का इकरार -मेरी शायरी

Yun hi pyaar ka ikraar krte rehna,
Yun hi hum pr marte rehna,
Ye zindagi ab aap ke naam hai,
Yun hi hume khudme Sambhaale rehna...

यूँ ही प्यार का इकरार करते रहना,

यूँ ही हम पर मरते रहना,
ये ज़िन्दगी अब आप के नाम है,
यूँ ही हमे खुदमे सम्भाले रेहना...

फिर वो हमारे करीब-मेरी शायरी

Fir wo humaare krib honge,
Doori ke ye manzar door honge.
Khushiyaan bhi milengi aur chain-o-sukun bhi,
Jab hum ek dusre ke karib honge...

फिर वो हमारे करीब होंगे,

दूरी के ये मंज़र दूर होंगे.
खुशियां भी मिलेंगी और चैन-ो-सुकून भी,
जब हम एक दूसरे के करीब होंगे...


Thursday, 1 June 2017

इंतज़ार किसका है तुझे-मेरी शायरी

Intzaar kiska hai tuje ae mere dil,
Tuje koi nahi chahta...
Tu bhi akela hi rhega zindgi bhar,
tuje koi nhi maangta...

इंतज़ार किसका है तुझे ऐ मेरे दिल,

तुझे कोई नहीं चाहता...
तू भी अकेला ही रहेगा ज़िंदगी भर,
तुझे कोई नहीं मांगता...

दिल टूट रहा है-मेरी शायरी

Dil tut rha hai,
Dard ho rha hai,
Jane kya ab mehsoos ho rha hai,
Kash koi ho jo sambhale muje
ye kehna ab fizool ho rha he...

दिल टूट रहा है,

दर्द हो रहा है,
जाने क्या अब महसूस हो रहा है,
काश कोई हो जो संभाले मुझे
ये कहना अब फ़िज़ूल हो रहा हे...

दर्द किसी के चले जाने से-मेरी शायरी

Dard kisi ke chle jane se nhi,
Kisi ke aane se mehsoos hota he..
Chahe insan jaisa bhi ho,
Kabhi na kbhi majboor hota he...

दर्द किसी के चले जाने से नहीं,

किसी के आने से महसूस होता हे..
चाहे इंसान जैसा भी हो,
कभी न कभी मजबूर होता है...

हम रूठे नही कभी -मेरी शायरी

Hm ruthe nhi kabhi kisi se,
Hme mnane wala koi nhi,
Hm aaj bhi nhi ruthh te kisi se,
Hme smjane wala koi nhi...

हम रूठे नही कभी किसी से,

हमे मनाने वाला कोई नहीं,
हम आज भी नही रुठ ते किसीसे,
हमे समझाने वाला कोई नहीं...

साथ किसी का मिल जाए तो-मेरी शायरी

Saath kisika mil jaaye to jine ka maza aa jaye, 
Tanha na rhe koi,hr shakhs saath paa jaaye,
Sukun mile unhe jo talash rhe hai sukun,
Muje to bs uski ek jhalak mil jaaye...

साथ किसी का मिल जाए तो जीने का मजा अा जाये,

तन्हा ना रहे कोई,  हर शक्ष साथ पा जाये,
सुकुन मीले उसे जो तलाशे हैं सुकुन,
मुझे तो बस उसकी एक जलक मिल जाए ...

एक उमर गुझार दी है मैने -मेरी शायरी

Ek umr guzaar di hai maine akelepn mai,
Baate kuchh purani yaad aa gai is aawarapn mai,
Gunaah bhi mera rha hoga koi mashoor ae khuda, 
Bhulaaya bhi nhi bhula bhi nhi iss deewanepn mai...

एक उमर गुझार दी है मैने अकेलेपन मे,

बाते कुछ पुरानी याद आ गई है अवारापन मे,
गुनाह भी मेरा रहा होगा कोई मशूर ए खुदा,
भुलाया भी नही भुला भी नही इस दीवानेपन मे ...

मेरे सीने पे हाथ रख के-मेरी शायरी

Mere sine pe haath rkh ke dekh,
Dil ki Dhdkno ko tez bdhte dekh,
Fir suna dena apna faisla muje...
Agr inme aavaaz na aaye tere naam ki dekh...

मेरे सीने पे हाथ रख के देख,

दिल की धडकनो को तेज़ बढते देख,
िफर सुना देना अपना फैसला मूझे ...
अगर इनमे अवाज़ ना आये तेरे नाम की देख ..


कुछ दोस्त खफ़ा हो गए - मेरी शायरी

Kuchh dost khafa ho gae hai, Lagata hai hamaaree sohabat unhen ab raas nahee aatee. Na karenge  kabhee koee shikava tumase, Shart ...