Tuesday, 27 June 2017

दिल दुखाते हो तुम.......

दिल दुखाते हो तुम,
फिर भी याद आते हो तुम,
मन को भिगो के जाती है तेरी यादें,
और इस बरसात में तरसाते हो तुम...

तेरी बातें सिर्फ बातें.......

तेरी बातें सिर्फ बातें है,
हक़ीक़त होती तो मैं तन्हा ना होती।

अजनबी से बने हुए है .......

अजनबी से बने हुए है आप,
और हमें बस किसी अपने का इंतज़ार है...

ना तू आया ना बारिश.......

ना तू आया ना बारिश..
वादे तेरे जूठे, ना अब हमें कोई ख़्वाहिश...!

प्यार होता तो आज हम.......

प्यार होता तो आज हम साथ होते,
यूँ बारिश की बूंदों के लिए तरसते न होते...

रूठ ने का हक़ भी.......

रूठ ने का हक़ भी छीन लिया,
अब बचा ही क्या है लूटने के लिए!!! 

वो तड़पाते है, रुलाते है.......

वो तड़पाते है, रुलाते है, इंतज़ार करवाते है,
और हमे रूठने का भी हक़ नही!!?? 

Wednesday, 21 June 2017

प्यार मेरा तेरे जैसा.......

प्यार मेरा तेरे जैसा तो नहीं,
बस तू ही तू है  पर खवाबों  जैसा तो नहीं,
दिल हुआ है पागल इस जज़्बात मे,
कही तेरा हाल मेरे जैसा तो नहीं...???  

थोड़ा रो कर जी हल्का कर लेते......

थोड़ा रो कर जी हल्का कर लेते,
थोड़ा मुस्कुरा के जी लेते,
तुम पास होते
तो हम अकेले ना होते...।

तेरा ज़िक्र...तेरी फ़िक्र.......

तेरा ज़िक्र...तेरी फ़िक्र... 
तेरा एहसास... तेरा ख्याल..!!! 
तू खुदा नही... फिर हर जगह मौजूद क्यूँ है...!!?

बरसों से कायम है इश्क़......

बरसों से कायम है इश्क़, 
अपने असूलों पे, 
ये कल भी तकलीफ़ देता था, 
ये आज भी तकलीफ़ देता है...।

एक बार तो यूँ होगा .......

एक बार तो यूँ होगा,
थोड़ा सा सुकून होगा, 
ना दिल में कसक होगी, 
न सर में जुनूँ होगा...।  

Sunday, 18 June 2017

बात करो, हमें याद......

बात करो, हमें याद करो,
दिल मैं ना कोई फरियाद करो,
है मोहब्बत तो खुल के कहो,
ऐसे हमे ना नज़र अंदाज़ करो...

Tuesday, 13 June 2017

एक मेहबूब बेपरवाह.......

एक मेहबूब बेपरवाह और...
एक मोहब्बत बेपनाह,
दोनों काफ़ी है...
सुकून बर्बाद करने को...।

Sunday, 11 June 2017

इतना प्यार है उनको हमसे.......

इतना प्यार है उनको हमसे,की लफ्ज़ों में जज़्बात बयान नही होते...
दिल भी दुःखाते है हम,तो वो नाराज़ नही होते...
कैसे बताये हम उन्हें की इरादा तो करीब आने का था,
कमबख्त मेरे जज़्बात क्यूँ ज़ाहिर नही होते...???

Saturday, 10 June 2017

तुम्हें मैंने अपनी आंखों का.......

तुम्हें मैंने अपनी आंखों का काजल बना रक्खा है,
कोई पूछे तो अदा से नाज़ करते है।

मेरे सपनों को वो बयाँ करने.......

मेरे सपनों को वो बयाँ करने लगे है,
खुशियों का वो मुझे पैगाम देने लगे है...
ज़िन्दगी बस उनके पहलू में बितानी है मुझे,
इस कदर वो मुझे अपना बनाने लगे है...

ख़्वाहिशों के दबे दबे से.......

ख़्वाहिशों के दबे दबे से अरमान थे मेरे,
उनको सीने से लगाया उन्होंने...
सपने सारे जो अधूरे थे मेरे,
उनको हक़ीक़त बनाया उन्होंने...

Wednesday, 7 June 2017

दिल पे दस्तक दी औऱ दिल मे ही.......

दिल पे दस्तक दी औऱ दिल मे ही बस गया...
तब से सीने से ये दिल गया...
सब कुछ अपना अपना सा लगता है,
जब से वो मुझ में बस गया...।

उस श्याम ने प्रेम बनाया.......

उस श्याम ने प्रेम बनाया है,
इस श्याम ने प्रेम सिखाय है,
दोनों श्याम प्रेम के नाम है,
मिलना बिछड़ना उसके हाथ है...।

दुआ तेरी कबूल होगी.......

दुआ तेरी कबूल होगी,
कामयाबी तेरे रूबरू होगी,
खुद पे ऐतबार कर, खुदा पे भरोसा,
तेरी सारी परेशानियां दूर होंगी...।

आईने मैं देखु तो अक्स उसका.......

आईने मैं देखु तो अक्स उसका दिखाई दे,
ए खुदा अब तो हमे मिला दे...
खुद को भूल गए या याद तुम ही हो?
अब ना कुछ सोचे बस तू दुहाई दे...

Saturday, 3 June 2017

अंदाज़ कुछ बदला बदला.......

अंदाज़ कुछ बदला बदला सा है,
मन कुछ मचला मचला सा है,
हुई है हमे मोहब्बत जबसे उनसे,
दिल कुछ पगला पगला सा है...

उनकी याद कुछ ऐसे सताने.......

उनकी याद कुछ ऐसे सताने लगी,
बारिश बन कर दिल को भिगोने लगी,
वो दूर है हम से इतना फिर भी,
पास होने का एहसास दिलाने लगी...

उनको याद करना अच्छा.......

उनको याद करना अच्छा लगता है,
उनको प्यार करना अच्छा लगता है,
जुदाई का दर्द तो है मगर,
उनकी याद में तड़पना अच्छा लगता है...

जब पैगाम आप का आता है.......

जब पैगाम आप का आता है,
ये दिल मचल जाता है,
हो चाहे कितने भी गम,
बस पल भर में चुरा ले जाता है...

यूँ ही प्यार का इकरार .......

यूँ ही प्यार का इकरार करते रहना,
यूँ ही हम पर मरते रहना,
ये ज़िन्दगी अब आप के नाम है,
यूँ ही हमे खुदमे सम्भाले रेहना...

फिर वो हमारे करीब.......

फिर वो हमारे करीब होंगे,
                                    दूरी के ये मंज़र दूर होंगे.
खुशियां भी मिलेंगी और चैन-ो-सुकून भी,
जब हम एक दूसरे के करीब होंगे...


Thursday, 1 June 2017

इंतज़ार किसका है तुझे.......

इंतज़ार किसका है तुझे ऐ मेरे दिल,
तुझे कोई नहीं चाहता...
तू भी अकेला ही रहेगा ज़िंदगी भर,
तुझे कोई नहीं मांगता...

दिल टूट रहा है.......

दिल टूट रहा है,
दर्द हो रहा है,
जाने क्या अब महसूस हो रहा है,
काश कोई हो जो संभाले मुझे
ये कहना अब फ़िज़ूल हो रहा हे...

दर्द किसी के चले जाने से.......

दर्द किसी के चले जाने से नहीं,
किसी के आने से महसूस होता हे..
चाहे इंसान जैसा भी हो,
कभी न कभी मजबूर होता है...

हम रूठे नही कभी.......

हम रूठे नही कभी किसी से,
हमे मनाने वाला कोई नहीं,
हम आज भी नही रुठ ते किसीसे,
हमे समझाने वाला कोई नहीं...

साथ किसी का मिल जाए तो.......

साथ किसी का मिल जाए तो जीने का मजा अा जाये,
तन्हा ना रहे कोई,  हर शक्ष साथ पा जाये,
सुकुन मीले उसे जो तलाशे हैं सुकुन,
मुझे तो बस उसकी एक जलक मिल जाए ...

एक उमर गुझार दी है मैने.......

एक उमर गुझार दी है मैने अकेलेपन मे,
बाते कुछ पुरानी याद आ गई है अवारापन मे,
गुनाह भी मेरा रहा होगा कोई मशूर ए खुदा,
भुलाया भी नही भुला भी नही इस दीवानेपन मे ...

मेरे सीने पे हाथ रख के.......

मेरे सीने पे हाथ रख के देख,
दिल की धडकनो को तेज़ बढते देख,
िफर सुना देना अपना फैसला मूझे ...
अगर इनमे अवाज़ ना आये तेरे नाम की देख ..