Tuesday, 27 June 2017

अजनबी से बने हुए है -मेरी शायरी

Ajnabi se bane huye hai aap,
 Aur hume bs kisi apne ka intzaar hai..

अजनबी से बने हुए है आप,
और हमें बस किसी अपने का इंतज़ार है...

No comments:

Post a Comment

कुछ दोस्त खफ़ा हो गए - मेरी शायरी

Kuchh dost khafa ho gae hai, Lagata hai hamaaree sohabat unhen ab raas nahee aatee. Na karenge  kabhee koee shikava tumase, Shart ...