Sunday, 23 July 2017

बादल बरस रहे .......

बादल बरस रहे है बाहर,
और यादें बरस रही है अंदर

No comments:

Post a Comment