ads

Wednesday, 5 July 2017

आप से मुहब्बत का नशा उतर नहीं-मेरी शायरी

Aap se mohabbat ka nasha utr nhi rha
Aur,
Sharaab thak gai hmare halk se jaate jaate...
Ab haal ye ho gya hai ki
Aapko bhul jaane ke liye.
Pura din sochte he ki aapko bhulna hai.!

आप से मुहब्बत का नशा उतर नहीं रहा है 

और,
शराब थक गइ हमारे हल्क से जाते जाते ....
अब हाल ये हो गया है कि
आपको भूल  जाने के लिए।
पूरा दिन सोचते है कि आपको भूलना हैं।!



No comments:

Post a Comment