Saturday, 12 August 2017

कुछ दोस्त खफ़ा हो गए - मेरी शायरी

Kuchh dost khafa ho gae hai,
Lagata hai hamaaree sohabat unhen ab raas nahee aatee.

Na karenge  kabhee koee shikava tumase,
Shart itanee hai muskuraahat tere chehare se kho na pae.

Mehaboob mera mujhase door ho raha hai,
Shaayad kisee or ke nazadeek ho raha hai.

कुछ दोस्त खफ़ा हो गए है,
लगता है हमारी सोहबत उन्हें अब रास नही आती।

न करेंगे  कभी कोई शिकवा तुमसे,
शर्त इतनी है मुस्कुराहट तेरे चेहरे से खो न पाए।

मेहबूब मेरा मुझसे दूर हो रहा है,
शायद किसी ओर के नज़दीक हो रहा है।

Saturday, 5 August 2017

हर लफ्ज़ तेरे लिए कुछ - मेरी शायरी

Har laphz tere lie kuchh kahana chaahate hain,
Par dil kee soch se km nazar aate hai. Hamaaree ginatee to aam insaano mai hee hotee hai,Par ye dil ke jazbaat,bepanaah mohabbat,khud par gurur karane ko majaboor kar detee hai...

हर लफ्ज़ तेरे लिए कुछ कहना चाहते हैं,
पर दिल की सोच से कम नज़र आते है।
हमारी गिनती तो आम इन्सानो मै ही होती है,
पर ये दिल के जज़्बात,बेपनाह मोहब्बत,खुद पर गुरुर करने को मजबूर कर देती  हैं,

Wednesday, 2 August 2017

मुमकिन भी कैसे हो मिलना - मेरी शायरी

mumakin bhee kaise ho milna unse,

rooth baithe hai,vo hamase ham unse 

मुमकिन भी कैसे हो मिलना उनसे,

रूठ बैठे है,वो हमसे हम उनसे ।

कुछ दोस्त खफ़ा हो गए - मेरी शायरी

Kuchh dost khafa ho gae hai, Lagata hai hamaaree sohabat unhen ab raas nahee aatee. Na karenge  kabhee koee shikava tumase, Shart ...