Wednesday, 2 August 2017

मुमकिन भी कैसे हो मिलना.......

मुमकिन भी कैसे हो मिलना उनसे,
रूठ बैठे है,वो हमसे हम उनसे ।

No comments:

Post a Comment