Saturday, 12 August 2017

कुछ दोस्त खफ़ा हो गए - मेरी शायरी

Kuchh dost khafa ho gae hai,
Lagata hai hamaaree sohabat unhen ab raas nahee aatee.

Na karenge  kabhee koee shikava tumase,
Shart itanee hai muskuraahat tere chehare se kho na pae.

Mehaboob mera mujhase door ho raha hai,
Shaayad kisee or ke nazadeek ho raha hai.

कुछ दोस्त खफ़ा हो गए है,
लगता है हमारी सोहबत उन्हें अब रास नही आती।

न करेंगे  कभी कोई शिकवा तुमसे,
शर्त इतनी है मुस्कुराहट तेरे चेहरे से खो न पाए।

मेहबूब मेरा मुझसे दूर हो रहा है,
शायद किसी ओर के नज़दीक हो रहा है।

No comments:

Post a Comment

कुछ दोस्त खफ़ा हो गए - मेरी शायरी

Kuchh dost khafa ho gae hai, Lagata hai hamaaree sohabat unhen ab raas nahee aatee. Na karenge  kabhee koee shikava tumase, Shart ...