Saturday, 28 October 2017

दिल को धड़का कर तड़पा कर.......

दिल को धड़का कर तड़पा कर यूँ वो दूर जाते है,
जैसे दुश्मन की जान ले रहा हो कोई शान से।

No comments:

Post a Comment